No icon

 यह शरजिल इमाम वही है जो जेएनयू में आसाम और भारत से अलग करने के भड़काऊ बयान दिया था...

गिरिराज सिंह ने जेएनयू छात्र "शरजिल इमाम" को गद्दार बताते हुए कहा, कैसे मान लूं कि इन गद्दारों का खून शामिल यहां की मिट्टी में?

D BHARAT DESK: अपने हिंदूवादी सोच के लिए और अपने बयानों के लिए सुर्खियों में रहने वाले गिरिराज सिंह एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं।  ग‍िर‍िराज सिंह ने शरजिल को 'गद्दार' करार दिया है। उन्‍होंने कहा कि इन गद्दारों की बात सुनकर कैसे मान लूं कि इनका खून शामिल है यहाँ की मिट्टी में? यह शरजिल इमाम वही है जो जेएनयू में आसाम और भारत से अलग करने के भड़काऊ बयान दिया था। भाजपा के फायर ब्रांड नेता कहां चुप बैठने वाले थे तो उन्होंने भी शरजिल को निशाने पर ले लिया।

Read Also:-युवती के साथ छेड़छाड़, आरोपी पर पंचायत में ठोका गया 21 हजार का जुर्माना

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर देशभर में कई जगहों पर भड़काऊ नारेबाजी और हिंसक विरोध-प्रदर्शन देखने को मिल रहे हैं। इसी बीच जेएनयू के छात्र शरजिल इमाम का आपत्तिजनक वीडियो सामने आया है। वीडियो में इस्तेमाल की गई भाषा हमारे संघीय ढांचे पर प्रहार है। यह वीडियो अलगाववादी और देश को विभाजित करने के एजेंडे को दिखाती है। वीडियो में शरजिल इमाम ने कहा है कि असम को भारत से अलग कर देना चाहिए।

Read Aalso:-दुष्कर्म मामले के फरार आरोपी राजद विधायक अरुण यादव की मुश्किलें बढ़ी

शरजिल इमाम के इस भड़काऊ बयान पर राजनीति शुरू हो गई है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के बाद अब केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर शरजिल को गद्दार करार दिया है। गिरिराज सिंह ने ट्वीट किया, 'ये कहते है सभी का खून है शामिल यहां की मिट्टी में... किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है। इन गद्दारों की बात सुनकर कैसे मान लूं की इनका खून शामिल है यहां की मिट्टी में? कह रहा है असम को काट कर हिंदुस्तान से अलग कर देंगे।

Read Also:-बिहार पॉलिटिक्स में टूटती जा रही भाषा की मर्यादा, प्रशांत किशोर को बताया राजनीति का दलाल और पॉलिटिकल कैरेक्टर लेस

संबित पात्रा ने शाहिन बाग को बताया तौहीन बाग
इससे पहले संबित पात्रा ने दावा किया कि शाहीन बाग में प्रदर्शन के नाम पर भारत के टुकड़े करने की साजिश चल रही है। पात्रा बोले, 'वहां खुलेआम आगजनी, खुले जिहाद का आवाहन किया जा रहा है। असम को अलग करने की बात की जा रही है।'

Read Also:-पटना में निगरानी ब्यूरो टीम ने एक लाख रुपए घूस लेते, रंगे हाथों भवन निर्माण निगम के सहायक सचिव को किया गिरफ्तार

प्रेस कॉन्फ्रेंस में पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल ने शाहीन बाग का खुला समर्थन किया था। अब फिर दोनों को सबके सामने आकर बोलना चाहिए। पात्रा नए तथ्य लेकर आए और शाहीन बाग को दिशाहीन बाग और तौहीन बाग कह दिया।

Read Also:- जेडी विमेंस कॉलेज हैं बुर्का पर लगाया बैन तो वायरल हुई बैन वाली नोटिस, फिर हटा बुर्का से बैन
 
हिंदुस्तान से असम को अलग कर सकते हैं
जेएनयू छात्र शरजिल इमाम वायरल वीडियो में कहता है, 'हमारे पास संगठित लोग हों तो हम असम को हिंदुस्तान से हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं। स्थायी तौर पर नहीं तो एक-दो महीने के लिए असम को हिंदुस्तान से अलग कर ही सकते हैं। रेलवे ट्रैक पर इतना मलबा डालो कि उनको हटाने में एक महीना लगे। जाना हो तो जाएं वायुसेना से। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है।'

Read Aalso:-नवादा में मिली महिला की जली हुई अर्धनग्न शव, लाश मिलने से इलाके में सनसनी

असम के अलग होने पर सुनेंगे बात
भड़काऊ वीडियो में शरजिल कहता है, 'भारत और असम अलग हो जाएं, तभी वे हमारी बात सुनेंगे। क्या आपको पता है असम में मुसलमानों का क्या हाल है? वहां एनआरसी लागू हो गया है। मुस्लिमों को हिरासत केंद्र में डाला जा रहा है। छह-आठ महीनों में पता चलेगा कि वहां सारे बंगालियों को मार दिया गया। यदि हमें असम की मदद करनी है तो असम का रास्ता बंद करना होगा।'

Read Also:-सिवान में 25 हजार का इनामी, कुख्यात अपराधी चंदन सिंह चढ़ा एसटीएफ के हत्थे

शरजिल पर दर्ज हुआ देशद्रोह का मुकदमा
इस मामले पर असम के मंत्री हिमंत बिस्व शर्मा ने कहा कि दिल्ली के शाहीन बाग के विरोध प्रदर्शन के मुख्य आयोजक शरजिल का कहना है कि असम को शेष भारत से अलग कर देंगे। राज्य सरकार ने इस देशद्रोही बयान पर संज्ञान लिया है और उसके खिलाफ मामला दर्ज करने का फैसला लिया।

Read Also:-जदयू के ललन सिंह ने पीके और पवन वर्मा को दिखाया आईना, कहां पवन और मैं खुद को भारी नेता समझते हैं

असम पुलिस के एडीजीपी लॉ एंड ऑर्डर जीपी सिंह ने बताया कि शरजिल इमाम के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। शरजिल द्वारा दिए गए भड़काऊ भाषण और अपत्तिजनक बयान के खिलाफ गुवाहाटी अपराध शाखा पुलिस स्टेशन में धारा 153 ए,153 बी और 124 ए आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया है।

 

Comment As:

Comment (0)

-->