No icon

 बिहार विधानसभा चुनाव के मध्य नजर बिहार की सियासत में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू है...

बिहार में फिर पोस्टर बार, आरजेडी ने नीतीश और सुशील कुमार मोदी को बताया बिहार को बर्बाद करने वाला ट्रबल इंजन की सरकार

Patna: बिहार विधानसभा चुनाव के मध्य नजर बिहार की सियासत में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू है। आमजन को लुभाने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियां कड़ी मेहनत कर रही है। इसी बीच आरजेडी और जदयू के बीच एक बार फिर पोस्टर वार शुरू हो गया है।पोस्टर के माध्यम से आरजेडी द्वारा बिहार की बीजेपी और जदयू की सरकार पर निशाना साधा गया, जिसने ट्रबल इंजन की सरकार बताते हुए बिहार को बर्बाद करने का आरोप लगाते नीतीश कुमार सुशील मोदी को ट्रावल इंजन का सरकार बताया।

Read Also:-नीतीश के बयान के बाद,प्रशांत किशोर और पवन वर्मा को मिला आरजेडी और कांग्रेस में शामिल होने का न्योता

पोस्टर में ट्रेन का चित्र बनाकर एक तरफ सीएम नीतीश कुमार तो दूसरी दी और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की फोटो लगाई गई और उसके आगे ट्रावल इंजन लिखा गया। इससे पूर्व 18 जनवरी को जदयू ने एक पोस्टर जारी किया था जिसमें लिखा गया था कैदी संख्या 335, लालू जी का ससुराल व राबड़ी देवी का नई हर से ल कह रहा बिहार के विकास की कहानी। इस पोस्टर के माध्यम से राबरी के गांव में विकास के कार्यों को दर्शाया गया था। जदयू ने बताया था कि दोनों गांव को लालटेन राज्य से निकालकर बिजली की रोशनी में चकाचौंध किया गया।

Read Also:-दो पत्नियों का एक पति,पत्नियों ने पति को कुछ इस कदर किया पति का वांटवारा

जदयू द्वारा जारी किए गए इस पोस्टर के बाद आरजेडी कहां पीछे रहने वाला था। पार्टी की ओर से कार्यालय के बाहर ही एक पोस्टर लटका कर जदयू को जवाब दिया गया। जिसमें बिहार की एनडीए सरकार को बिहार को बर्बाद करने वाला और डबल इंजन की जगह ट्रबल इंजन की सरकार बताया गया।

Read Also:-आजम खान को बड़ा झटका, जौहर यूनिवर्सिटी के दो भवन सीज, खान से वापस ली जायेगी दलितों से खरीदी 104 बीघे जमीन

इससे पहले भी बिहार में राजनीतिक दलों ने पोस्टर के जरिए एक दूसरे पर निशाना साधा था| जेडीयू ने आरजेडी के 15 साल बनाम खुद के 15 साल के सरकार के कामकाज का तुलनात्मक पोस्टर जारी किया था|इसके बाद आरजेडी ने नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव के व्यक्तित्व की तुलना करते हुए आधा दर्जन से अधिक पोस्टर जारी किया था| आरजेडी ने अपने पोस्टर में एक तरफ लालू प्रसाद की तस्वीर लगाकर उन्हें ‘बिहार का बल’ बताया था तो उसके ठीक सामने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तस्वीर लगाकर उनके बारे में ‘बिहार का छल’ टिप्पणी की थी।

Comment As:

Comment (0)

-->