No icon

डॉ0 दीनदयाल कुमार ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बताया कि, कोरोना का....

कोरोना से बचाव एवं संपूर्ण इलाज होम्योपैथिक दवा से संभव- डॉ0 दीनदयाल कुमार

D BHARAT DESK: चीन से निकलकर कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा दिया है. दुनिया के कई देशों में इमरजेंसी की स्थिति आ चुकी है| इटली, अमेरिका, चीन, भारत और जापान सहित कई बड़ी अर्थव्यस्थाओं पर मंदी का खतरा है| कोरोना वायरस आज संपूर्ण संसार में मानव समाज के लिए बहुत बड़ा खतरा साबित हो रहा है। आए दिन बड़ी संख्या में लोग कोराना वायरस से प्रभावित होकर मृत्यु को प्राप्त हो रहे हैं।

Read Also:-ये है बेगूसराय गोसाई मठ का जर्जर सड़क, भाजपा के फायर ब्रांड नेता का कार्य क्षेत्र

वायरस के चपेट में आने के बाद मृत्यु को गले लगाने से रोकने के लिए डॉक्टरों एवं वैज्ञानिकों की टीम लगातार प्रयासरत है। परंतु कोरोना प्रभावित मानव शरीर पर जो SYMPTOMS (लक्षण) दिखाई पड़ता है, वह कुछ इस प्रकार का है - सर्दी - जुकाम, खांसी होना, बुखार होना, सांस लेने में तकलीफ का होना, सिर में  चक्कर आना और सिर दर्द इत्यादि का होना। जैसा कि कोरोना प्रभावित लोगों के जांच होने पर विशेषज्ञों द्वारा बताया जा रहा है। हालांकि अब तक कोरोना का डब्ल्यूएचओ (World Health Organization) या एलोपैथिक चिकित्सा विभाग द्वारा कोई निर्धारित बेक्सिन ईजाद नहीं किया गया है। जिस वजह से लोगों में कोरोना का खौफ साफ तौर पर नजर आता है।

Read Also:-बेगूसराय के खोदावंदपुर प्रखंड में उत्क्रमित मध्य विद्यालय सागी हिंदी के स्कूल हेड मास्टर ने बच्चे कि की बर्बर पिटाई। भरके परिजन

लोगों के दिलों से कोरोना के खौफ को दूर करने के लिए बिहार से आज होम्योपैथ के विशेषज्ञ चिकित्सक एवं समाज सेवी डॉ0 दीनदयाल कुमार ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बताया कि, कोरोना का डर जिस प्रकार से मीडिया और सोशल मीडिया ने लोगों के दिल में डाल दिया है कि लोग कोरोना का रोना रो रहे हैं। जबकि कोरोना के SYMPTOMS ( लक्षण ) का होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति  विगत 150 वर्षों से बहुत ही आसान तरीके से ट्रीटमेंट करता आ रहा है।

डॉ0 दयाल जी ने आगे कहा कि Arsenic Alb, Baptisia T & Sabadilla होम्योपैथ कि इन तीनों दवा द्वारा कोराना प्रभावित शरीर को पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है। जब डॉ0 साहब  से पूछा गया कि इन दवाओं का सेवन कैसे किया जाएगा? तो उनका कहना हुआ इन तीनों दवाओं को 30 पोटेंसी में बराबर मात्रा में मिलाकर 4 ड्रॉप प्रतिदिन सुबह, दोपहर और शाम 2 सप्ताह तक खाना है। साथ में H.S 1M ( Hepar Sulphar- 1M ) 4 ड्रॉप प्रत्येक 2 दिनों के अंतराल पर अर्थात प्रत्येक तीसरे दिन खाना है। कोराना प्रभावित पेशेंट को H.S -1M पोटेंसी में 5 डोज खाना है।

उन्होंने आगे कहा कि होम्योपैथ कि उपरोक्त दवाओं के सेवन से मात्र 2 सप्ताह में ही शरीर से कोरोना का Symptoms (लक्षण) समाप्त हो जाता है। वैसे तो N.V-30  & Ars.Alb-30 का   2 टाइम्स प्रतिदिन 1 सप्ताह तक खा लेने से इम्यून सिस्टम मजबूत हो जाता है और मानव शरीर पर किसी भी प्रकार के वायरस का खतरा नहीं होता है। साथ ही प्रिकॉशन तो लेना ही चाहिए परंतु उक्त होम्योपैथिक दवा से कोरोना का बचाव एवं संपूर्ण इलाज संभव है|  डॉ0 दीनदयाल कुमार ने लोगों को कोरोना का खौफ खाने से मना करते हुए लोगों से अपील की कि- 

    1.सोशल मीडिया से दूरी बनाकर रखें

 इस दौर में सोशल मीडिया पर चल रही खबरों पर विश्वास न करें। खासकर ऐसी बातों पर की अभी कहां क्या चल रहा है और आगे क्या होगा। सोशल मीडिया से दूर रहेंगे तो मन शांत रहेगा। भ्रामक खबरों को आगे बढ़ाने से बचें। खासकर वॉट्सएप पर वायरल हो रहे अफवाहों से बिल्कुल ही दूर रहें और इसे फॉरवर्ड करने से बचें।

     2.समय हो तो व्यायाम करें
तन-मन को स्वस्थ रखना है तो ऐसे हालात में व्यायाम करना फायदेमंद है। सुबह थोड़ा समय निकाल कर आप योगासन वगैरह कर सकते हैं। घर पर हैं तो गमलों और गार्डेन को समय दे सकते हैं। संगीत के बीच कुर्सी पर बैठे-बैठे कुछ मनपसंद चीजें करें|

     3.खुली हवा में समय बिताएं
भीड़भाड़ वाली जगहों पर कोरोना का खतरा है। डॉक्टर और स्वास्थ्य एजेंसियां शुरू से ही भीड़भाड़ से बचने की सलाह दे रही है। ऐसे में पहले देखें की किस स्थान या पार्क में भीड़ नहीं है, वहां पर जाएं और समय बिताएं या वॉक करें। ध्यान रखें इस दौरान फोन  बिलकुल न देंखे न तो समय दें।

     4. ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें
सोशल मीडिया पर चल रहा है कि हर 15 मिनट पर पानी पीने से संक्रमण नहीं होगा। इसी तरह भीतर तक गहरी सांस लेने से पता चल जाएगा कि संक्रमण के चलते फेफड़ों को नुकसान हुआ है कि नहीं। ये दोनों बातें सच नहीं हैं। ऐसी किसी भी तरह की अफवाहों पर विश्वास न करें। विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट की वेबसाइट से आप कोरोना वायरस के बारे में सही तथ्यों की पुष्टि कर सकते हैं।

     5.मानसिक रोगी का ध्यान रखें
जिन लोगों को पहले से मानसिक समस्या है वे अपनी सेहत का ध्यान रखें। वायरस और संक्रमण का डर मन के भीतर घर कर जाएगा तो नींद नहीं आएगी। दिनचर्या प्रभावित होगी। ऐसे लोग दवा लेना भूलने लगते हैं। इन चीजों का घरवाले ध्यान रखें।

डॉ0 दीनदयाल कुमार पटना (बिहार)

Comment As:

Comment (0)

-->