No icon

 बिहार सुशासन का राज नहीं बल्कि गुंडा और पैसे वालों का राज है...

मां के हत्यारे को सजा दिलवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा दिव्यांग और गरीब

BEGUSARAI: बिहार सुशासन का राज नहीं बल्कि गुंडा और पैसे वालों का राज है! एक गरीब महिला राम राम वरण दास की पत्नी गुलाब देवी कि हत्या दबंग और पैसे वालों के द्वारा 15 मार्च 2020 को कर दिया जाता है और हत्या के इतने दिनों बाद भी हत्यारे पर कानून की कोई कारवाही नहीं होती है।। हत्यारे आजतक बेखौफ घुम रहे हैं! क्यों?? क्योंकि महिला बेहद ही गरीब है सभी रूपों में।

Read Also:-लखनऊ में 5 वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म के बाद गला घोट कर बेहसी दरिंदे ने कर दी हत्या

दिल को दहला देने वाली घटना बेगूसराय जिला के चेरिया बरियारपुर प्रखंड के गोपालपुर पंचायत स्थित रामपुर गांव की है। एक मामूली सी विवाद (कचरा एवं पानी) को लेकर रामपुर गांव के हैं धर्मेंद्र कुमार चौधरी, चंदन कुमार, कुंदन कुमार, शिव शंकर चौधरी, रिंकू देवी एवं उसके दबंग साथी राम वरण दास के घर के सामने गली में पहुंचकर गाली-गलौज शुरू कर देते हैं। गाली गलौज देख लोगों की भीड़ इकट्ठा हो जाती है फिर देखते ही देखते माजरा मारपीट में तब्दील हो जाता है। फिर उपरोक्त उपरोक्त दबंग रामबरन दास की पत्नी गुलाब देवी को लात - घूंसे और डंडे से पीटने लगते हैं। इसके कुछ देर बाद गुलाब देवी की मृत्यु हो जाती है।

Read Also:-पटना में 12 वर्षीय लड़की अपने 25 वर्ष के आशिक के साथ फरार

मृतिका गुलाब देवी का दो दिव्यांग बेटा एवं लाचार पति  उपस्थित रहता है। यह तीनों बाप बेटे चीखते चिल्लाते रहते हैं कि कोई मेरी पत्नी को बचा लो, कोई मेरी मां को बचा लो, मेरी मां को छोड़ दो, मेरी पत्नी को छोड़ दो। लेकिन भीड़ तमाशबीन बनी रहती है और दबंग गुलाब देवी को तब तक पीते रहते हैं जब तक उसकी मृत्यु नहीं हो जाती। दिल दहला देने वाली बेहद शर्मनाक घटना के बाद  गुस्साए ग्रामीण मृतिका गुलाब देवी का लाश लेकर सड़क को जाम कर देते हैं। फिर चेरिया बरियारपुर पुलिस सड़क पर पहुचती है जहां उग्र ग्रामीण लाश के साथ सड़क को जाम किए हुए थे।

Read Also:-चालबाज लड़की ने बॉयफ्रेंड को बचाने के लिए दूसरे लड़के पर लगाया बलात्कार का आरोप, पुलिस ने असली बलात्कारी को किया गिरफ्तार

पुलिस के द्वारा ग्रामीणों को समझा-बुझाकर जाम को हटाया जाता है एवं केश दर्ज कर इंसाफ का दिलासा दिलाता है। लेकिन मृतिका का दिव्यांग बेटा आज भी अपनी मां को इंसाफ दिलाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है।

Comment As:

Comment (0)

-->