No icon

देश में उत्तर प्रदेश पुलिस को लेकर कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दल उत्तर प्रदेश पुलिस की कार्यशैली पर

यूपी पुलिस ने झूठ फैलाने वाले पाकिस्तानी पीएम इमरान खान के मुंह पर जरा करारा तमाचा

UP:जहां देश में उत्तर प्रदेश पुलिस को लेकर कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दल उत्तर प्रदेश पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्न चिन्ह लगा रहे हैं और तानाशाह का पोषक बता रहे हैं। तो वही उत्तर प्रदेश पुलिस ने झूठ वाले को करारा जवाब देते हुए।

Read Also:-दहेज उत्पीड़न में महिला की संदेहास्पद मौत, घर के अंदर फंदे से लटका मिला शव

संविधान के द्वारा खाए गए कसम का पालन करते हुए निष्ठा पूर्वक काम कर रही है जिसका जीता जागता उदाहरण है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जो पुराना और बांग्लादेशी वीडियो को ट्वीट कर कहते हैं, कि मोदी सरकार के जातीय सफाए के तहत भारतीय पुलिस मुसलमानों पर हमला करते हुए। जब उत्तर प्रदेश पुलिस ने पूरे वीडियो का जांच-पड़ताल किया तो वीडियो बांग्लादेश का निकला। वीडियो का मामला उसने और गर्म हो गया जब इमरान खान के फॉलोअर्स इस्लाम इस्लाम चिल्लाते चिल्लाते उत्तर प्रदेश पुलिस को तानाशाह का तमगा दे रहे थे।

Read Also:-मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की जांच कर रहे डीआईजी अभय सिंह का तबादला कर' 'बृजेश ठाकुर' को बचा रहे हैं नीतीश कुमार

ध्यान देने योग्य है कि उत्तर प्रदेश पुलिस के हैंडलों से लगातार सोशल मीडिया पर भ्रामक खबर न फैलाने के संदेश जारी किये जाते रहे हैं. ऐसे में पाकिस्तान के प्रधानमन्त्री तक को भी अब एहसास हो गया है कि UP में व् UP को ले कर किसी भी प्रकार की भ्रामक खबर बर्दाश्त नहीं की जायेगी. बंगलादेश की पुलिस का एक पुराना वीडियो पाकिस्तानी प्रधानमन्त्री ने अपने ट्विटर पर शेयर करते हुए उसको उत्तर प्रदेश पुलिस के वर्तमान CAA मामले में की गई कार्यवाही से जोड़ा तो उन्हें मिला करारा जवाब|

Read Also:-फुलवारीशरीफ हिंसा में गायब, आमिर की मौत के मामले में कई लोग गिरफ्तार

इमरान ने भारत में नागरिकता संशोधन कानून विरोधी प्रदर्शनों के दौरान ‘भारत में पुलिस हिंसा’ का हवाला देते हुए तीन वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किए। इन वीडियो के साथ उन्होंने लिखा- ‘मोदी सरकार के जातीय सफाए के तहत भारतीय पुलिस मुसलमानों पर हमला करते हुए।’ इमरान की सीनाजोरी तब पकड़ में आ गई, जब पता चला कि उन्होंने जो वीडियो ट्वीट किया है, वह सिरे से भारत का है ही नहीं। वीडियो बांग्लादेश का निकला।

Read Also:-नोएडा एसएसपी वैभव कृष्ण के लेटर के अनुसार उत्तर प्रदेश में जिला कप्तान की पोस्ट के लिए 50 लाख से 80 लाख रुपये तक की रिश्वत

इमरान का पर्दाफाश उत्तर प्रदेश पुलिस ने किया। पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि वीडियो उत्तर प्रदेश का नहीं है। यह मई 2013 में बांग्लादेश के ढाका की घटना का है। यूपी पुलिस ने इंडिया टुडे के एक फैक्ट चेक का लिंक भी दिया जिससे भी साफ हुआ कि वीडियो बांग्लादेश का है। वीडियो में लोग बांग्ला भाषा बोलते नजर आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस ने बताया कि वीडियो में इमरान ने पुलिस के जिन जवानों को उत्तर प्रदेश का बताया, उनकी वर्दी पर आरएबी लिखा हुआ है। आरएबी (रैपिड एक्शन बटैलियन) बांग्लादेश पुलिस की आतंकरोधी इकाई है।

Comment As:

Comment (0)

-->